NCERT Solutions for Class 8 Hindi Chapter 9 - Kabir ki Sakhiyan

Chapter 9 - Kabir ki Sakhiyan Exercise प्रश्न-अभ्यास

Solution 1

'तलवार का महत्व होता है, म्यान का नहीं' से कबीर यह कहना चाहता है कि असली चीज़ की कद्र की जानी चाहिए। दिखावटी वस्तु का कोई महत्त्व नहीं होता। इसी प्रकार किसी व्यक्ति की पहचान अथवा उसका मोल उसकी काबलियत के अनुसार तय होता है न कि कुल, जाति, धर्म आदि से। उसी प्रकार ईश्वर का भी वास्तविक ज्ञान जरुरी है। ढोंग-आडंबर तो म्यान के समान निरर्थक है। असली बह्रम को पहचानो और उसी को स्वीकारो। 

Solution 2

कबीरदास जी इस पंक्ति के द्वारा यह कहना चाहते हैं कि भगवान का स्मरण एकाग्रचित होकर करना चाहिए। इस साखी के द्वारा कबीर केवल माला फेरकर ईश्वर की उपासना करने को ढोंग बताते हैं। 

Solution 3

घास का अर्थ है पैरों में रहने वाली तुच्छ वस्तु। कबीर अपने दोहे में उस घास तक की निंदा करने से मना करते हैं जो हमारे पैरों के तले होती है। कबीर के दोहे में 'घास' का विशेष अर्थ है। यहाँ घास दबे-कुचले व्यक्तियों की प्रतीक है। कबीर के दोहे का संदेश यही है कि व्यक्ति या प्राणी चाहे वह जितना भी छोटा हो उसे तुच्छ समझकर उसकी निंदा नहीं करनी चाहिए। हमें सबका सम्मान करना चाहिए।

Solution 4

''जग में बैरी कोइ नहीं, जो मन सीतल होय। 

या आपा को डारि दे, दया करै सब कोय।।

Solution 5

"या आपा को . . . . . . . . . आपा खोय।" इन दो पंक्तियों में 'आपा' को छोड़ देने की बात की गई है। यहाँ 'आपा' अंहकार के अर्थ में प्रयुक्त हुआ है। 'आपा' घमंड का अर्थ देता है। 

Solution 6

आपा और आत्मविश्वास में तथा आपा और उत्साह में अंतर हो सकता है - 

1. आपा और आत्मविश्वास - आपा का अर्थ है अहंकार जबकि आत्मविश्वास का अर्थ है अपने ऊपर विश्वास। 

2. आपा और उत्साह - आपा का अर्थ है अहंकार जबकि उत्साह का अर्थ है किसी काम को करने का जोश। 

 

Solution 7

''आवत गारी एक है, उलटत होइ अनेक। 

कह कबीर नहिं उलटिए, वही एक की एक।।''

मनुष्य के एक समान होने के लिए सबकी सोच का एक समान होना आवश्यक है।

Solution 8

कबीर के दोहों को साखी इसलिए कहा जाता है क्योंकि इनमें श्रोता को गवाह बनाकर साक्षात् ज्ञान दिया गया है। कबीर समाज में फैली कुरीतियों, जातीय भावनाओं, और बाह्य आडंबरों को इस ज्ञान द्वारा समाप्त करना चाहते थे।

Chapter 9 - Kabir ki Sakhiyan Exercise भाषा की बात

Solution 1

ग्यान - ज्ञान 

जीभि - जीभ 

पाऊँ - पाँव 

तलि - तले 

आँखि - आँख 

बरी - बड़ी