NCERT Solutions for Class 8 Hindi Chapter 17 - Baaj aour Saap

Chapter 17 - Baaj aour Saap प्रश्न-अभ्यास

Solution 1

घायल होने के बाद भी बाज ने यह कहा कि - "मुझे कोई शिकायत नहीं है।" उसने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि वह किसी भी कीमत पर समझौतावादी जीवन शैली पसंद नहीं करता थावह अपने अधिकारों के लिए लड़ने में विश्वास रखता थाउसने अपनी ज़िंदगी को भरपूर भोगावह असीम आकाश में जी भरकर उड़ान भर चुका थाजब तक उसके शरीर में ताकत रही तब तक ऐसा कोई सुख नहीं बचा जिसे उसनेभोगा होवह अपने जीवन से पूर्णतः संतुष्ट था 

Solution 2

बाज ज़िंदगी भर आकाश में उड़ता रहा, उसने आकाश की असीम ऊँचाइयों को अपने पंखों से नापाबाज साहसी थावह किसी भी कीमत पर समझौतावादी जीवन शैली पसंद नहीं करता थाअतः कायर की मौत नहीं मरना चाहता थावह अंतिम क्षण तक जीवन की आवश्यकताओं के लिए संघर्ष करना चाहता था 

Solution 3

साँप उड़ने की इच्छा को मूर्खतापूर्ण मानता था क्योंकि वह मानता था कि वह उड़ने में सक्षम नहीं है। पर जब उसने बाज के मन में आकाश में उड़ने के लिए तड़प देखी तब साँप के मन में भी उत्सुकता जागी कि आकाश का मुक्त जीवन कैसा होता है ? इस रहस्य का पता लगाना ही चाहिए। तब उसने भी आकाश में एक बार उड़ने की कोशिश करने का निश्चय किया।

Solution 4

बाज की बहादुरी पर प्रसन्न होकर लहरों ने गीत गाया थाउसने अपने प्राण गँवा दिए परन्तु ज़िंदगी के खतरे का सामना करने से पीछे नहीं हटा 

Solution 5

साँप का शत्रु बाज है चूँकि वो उसका आहार होता हैघायल बाज उसे किसी प्रकार का आघात नहीं पहुँचा सकता था इसलिए घायल बाज को देखकर साँप के लिए खुश होना स्वाभाविक था 

Solution 6

कहानी की स्वतंत्रता से संबंधित पंक्तियाँ - 

1. जब तक शरीर में ताकत रही, कोई सुख ऐसा नहीं बचा जिसे न भोगा हो। दूर-दूर तक उडानें भरी हैं, आकाश की असीम ऊँचाइयों को अपने पंखों से नाप आया हूँ। 

2. "आह! काश, मैं सिर्फ एक बार आकाश में उड पाता।" 

3. पर वह समय दूर नहीं है, जब तुम्हारे खून की एक-एक बूँद जिंदगी के अँधेरे में प्रकाश फैलाएगी और साहसी, बहादुर दिलों में स्वतंत्रता और प्रकाश के लिए प्रेम पैदा करेगी। 

Solution 7

मानव ने आदिकाल से ही पक्षियों की तरह उड़ने की इच्छा मन में रखी हैकिन्तु शारीरिक असमर्थता की वजह से उड़ नहीं पा रहा था जिसका परिणाम यह हुआ कि मनुष्य हवाई जहाज का आविष्कार कर दिखायाआज मनुष्य अपने उड़ने की इच्छा की पूर्ति हवाई जहाज, हेलीकॉप्टर, गैस-बैलून आदि से करता है 

Chapter 17 - Baaj aour Saap भाषा की बात

Solution 1

1. भाँप लेना - बच्चों का मुँह देखकर माता जी ने परीक्षा का क्या नतीजा आया होगा यह भाँप लिया

2. हिम्मत बाँधना - मित्र के आने पर ही परीक्षा के लिए राहुल की हिम्मत बँधी

3. अंतिम साँस गिनना - दादाजी की गिरती साँसें देखकर माता जी ने स्थिति भाँप ली वे कि वे उनकी अंतिम साँस गिन रहे हैं

4. मन में आशा जागना - शिक्षिका की कहानी ने मेरे मन में आशा जगा दी

5. प्राण हथेली में रखना - सिपाही ने देशवासियों की जान बचाने के लिए अपने प्राणों को हथेली में रख देते हैं

Solution 2

प्रत्यय शब्द 

द - सुखद, दुखद 

दाता - परामर्शदाता, सुखदाता 

दाई - सुखदाई, दुखदाई 

देह - विश्रामदेह, लाभदेह, आरामदेह 

प्रद - लाभप्रद, हानिप्रद, शिक्षाप्रद