Nibandhatmak prashna :
 
    Prastut path me lekhak ne badhe bhai ke charitra ke madhayam se shiksha sambandhiapne vicharo ko kis prakar Samne rakha hai? 

Asked by pdcavita | 13th Nov, 2017, 06:26: PM

Expert Answer:

प्रस्तुत पाठ में बड़े भाई साहब के माध्यम से लेखक ने समूची शिक्षा व्यवस्था पर व्यंग किया है। पाठ में बच्चों की व्यावहारिक शिक्षा को पूरी तरह नजर अंदाज किया है। पाठ में बच्चों के ज्ञान कौशल को बढ़ाने की बजाए उसे रट्टू तोता बनाने पर जोर दिया गया है जो कि सर्वाधिक अनुचित है। परीक्षा प्रणाली में आंकड़ों को महत्त्व दिया गया है। बच्चों के सर्वांगीण विकास की ओर शिक्षा प्रणाली कोई ध्यान नहीं देती है।

Answered by Beena Thapliyal | 14th Nov, 2017, 06:58: AM

Queries asked on Sunday & after 7pm from Monday to Saturday will be answered after 12pm the next working day.